Let Noble Thoughts come to us from all sides, News too..

SAVE BHARAT !!: अब कानून बनाकर बहुसंख्यको (हिंदुओ) को पुरी तरह खत्म करने की तैयारी !!

In National on October 13, 2011 at 7:06 pm

SAVE BHARAT !!: अब कानून बनाकर बहुसंख्यको (हिंदुओ) को पुरी तरह खत्म करने की तैयारी !!.

अब केंद्र सरकार (कांग्रेस) एक कानून लाने जा रही है।
जिसका नाम है।
(प्रीवैंशन आफ़ कम्युनल एंड टारगेटेड वायलैंस बिल-2011)

इस कानून की यदि व्याख्या की जाए तो यह कानून पकिस्तान के विवादित
(ईश निंदा ) कानून सी भी सखत है ।
जहाँ (ईश निंदा) इस कानून ने पकिस्तान में अलप्संखको की हालत भिखारी जैसी बना दी हैं ।वहीं भारत में लाया जा रहा (प्रीवैंशन आफ़ कम्युनल एंड टारगेटेड वायलैंस) बहुसंख्यको (हिंदुओ) के लिये फ़ांसी के फ़ंदे जैसा है।


देश में पहले से ही ज़हर की भंति फ़ैली संप्रदायिकता की नफ़रत और कितनी उंचाईयो को छू जाए गी आप कल्पना भी नही कर सकते !
इतना कहा जा सकता है बहुसंख्यको (हिंदुयो) के लिये इन्साफ़ के सारे रस्ते बंद हो जाए गए ।


अब इस कानून को समझे की कैसे बहुसंख्यको (हिंदूयो) को मसल कर रख देगा

यह कानून । विधेयक में कुल 9 अध्याय और 138 धाराएं है । पहले अध्याय में अवधारणो को परिभाषित किया गया है । यही परिभाषा सविधान, समाज को तार तार कर देती हैं ।

पहले अध्याय के अनुसार देश के नागरिको को दो भागो में वर्गो जाएगा
1) अलपसंखय्क मतलब (मुस्लिम और ईसाई)
2) बहुसंख्य्क मतलब (हिंदु)

अलपसंखय्क मतलब (मुस्लिम और ईसाई) के वर्ग को “ग़्रुप” का नाम दिया गया है|

और ग्रुप के बाहर वालो को मतलब हिंदुयो को ‘अन्य’ others कहा
जाएगा ।मतलब देश के नागरिको को दो भागो में बांट दिया जाएगा.
एक तरफ़ ग्रुप के लोग (मुसलिम और ईसाई )
और एक तरफ़ अन्य मतलब (हिंदु) ।

नागरिको को दो वर्गो में बांटने के बाद 3 और चीजो को परिभाषित किया गया हैं ।
1) संप्र्दायिक दंगा
2) लैंगिक अपराध
3) विद्वेष्पुर्ण प्रचार ।

दो संप्र्दायो मतलब दो अलग अलग धर्मो के लोगो में अगर कोई हिंसक वारदात होती है उसको हम दंग़ा कहते हैं |

लीकेन यह विधेयक कहता है
की केवल अलपसख्यक मतलब ( ईसाई और मुसिल्म )को अगर को जान माल की हनि होगी तो उसी को दंगा माना जाएगा.

इसके उलटा अगर किसी बहुसंख्यक मतलब (हिंदु) को किसी तरह की जान माल की हनि (ग्रुप) के लोगो अलपसख्यक मतलब (मुसलमान और ईसाईयो) द्वारा पहुँचाई जाती है ।
तो ये विधेयक उसको अपराध नहीं मानेगा ।

दुसरी भाषा में बोला जाए तो सरकार का यह कानून (मुस्लिम और ईसाईयो) को दंगा करने का अधिकार दे रहा हैं.की किसी भी बहुसंख्यक मतलब (हिंदुओ) को मारो पीटो कुछ भी करो तुमको खुली छूट है और इसको अपराध नहीं माना जाएगा।और अगर (ग्रुप) के बाहर का आदमी मतलब हिंदु कुछ ऐसा करेगा तो उसको अपराध माना जाएगा और उसे दंड मिलेगा ।

इसके बाद बारी आती है “लैंगिक अपराध” की इसको आप इस तरह से समझिये ।

की (ग्रुप) के लोगो की मां बहन मतलब ईसाई और मुसल्मानो की मां,बहन,बेटी के साथ को (ग्रुप) के बाहर का आदमी मतलब (हिंदु) बलत्कार करता है
तो उसी को अपराध माना जयेगा| और उसको दंड मिलेगा।


अब इसके उलटा कोई (ग्रूप) का आदमी मतलब मुस्लिम और ईसाई (ग्रूप) के बाहर के आदमी मतलब हिंदु की मां बहन बेटी से बलत्कार करता है तो यह विधेयक उसको कोई अपराध नहीं मानेगा.

मतलब यहाँ भी सरकार का यह विधेयक (ग्रूप) लोग अलपसखंयक मतलब मुस्ल्मानो और ईसाईयो को बलत्कार करने का अधिकार दे रही हैं कि जायो किसी भी हिंदु की मां, बहन के साथ बलत्कार करो. कोई तुमको कुछ नहीं कहेगा.

और अगर बहुसंखयक मतलब हिंदु कारेगा तो उसको सज़ा मिलेगी आप कल्पना कीजिये इस कानून के लागू होते ही देश का माहोल क्या होगा ।

अब बारी आती है ‘ग्वाह’ की । इस विधेयक के अनुसार ग्वाह केवल उसी को माना जायेगा. जिसने अलपसखंयक मतलब मुसलमान और ईसाई के ऊपर हूए आत्याचार,बलतकार को देखा हो ।

(ग्रूप) के बाहर के लोग मतलब हिंदुओ के ऊपर हूए आत्याचार या बलत्कार
को देखने वाले को ग्वाह नहीं माना जाएगा ।

ग्वाह तो दूर की बात हिंदुओ के उपर हुए अत्याचार या बलत्कार को तो अपराध ही नहीं मान जाएगा।

अब बात करते है (विद्वेष्पुर्ण प्रचार) की ।आप बाईबल,कुरान,मुस्लिम पर्सनल ला मुस्लिम रीतियों -क़ुरीतियो, अलपसंख्यक मागों, आंदोलनो,सगंठनो पर टीका टिपणी नहीं कर सकते ।


(ग्रुप) से बाहरी वर्ग का कोई भी आदमी मतलब हिंदु कुछ बोलकर ,लिखकर या किसी भी तरह से ऐसा कुछ भी
करता है.
जिससे (ग्रूप) के लोगो मतलब मुसलामानो और ईसाईयों को ठेस पहुँचे तो उसको आप्राधी माना जयेगा.

और इसके उलटा अगर हिंदुओ के धर्म पर कोई टिपणी करता है तो वो अपराध नहीं हैं .Facebook aur twitter bhe shamil hai.


और तो और मान लीजीये किसी ने ऐसा काम किया जो (ग्रूप ) के लोगो के खिलाफ़ हैं. और ऐसा काम करने वाला आदमी अगर किसी सनस्था या सगंठ्न से जुड़ा हैं चाहे direct ya indirect तो उस सनस्था ke मुखिया पर भी मुकदमा चलेगा और उसे सजा मिलेगी भले ही वो संगठन रजिसटिड हो या न हो ।


और एक नई बात
मान लो ग्रुप का कोई आदमी मतलब मुसलमान या ईसाई आपसे रोजगार मांगने या किराये के लिये घर मांगने आता है ।

और गलती से आपने उस से उसकी योग्यता या अनुकूलता पूछ ली और हां नहीं किया तो आप आपराधिक कानून का शिकार होगें । शिया-सुनी या ईसाई मुस्लिम पर यह कानून लागू नहीं होगा ।


अब पुलिस की भुमिका को समझिये मान लो अलपसखंको मतलब मुसलमानो और और ईसाईयो के विरुध दुष्ट्प्र्चार, घ्र्णा का महोल बनाने वाला कोई पोस्टर प्रकाशित हुआ या फ़िर मुसलमानो और ईसाईयो को जान माल की हानि होती है ।

तो पुलिस और प्रशासन को भी जिम्मेदार माना जायेगा। और मुकदमा चलेगा । मतलब साफ़ की अगर उनको अपनी खाल बचानी है कहीं भी गड़बड़ हो तो (हिंदुओ) को गिरफ़्तार करती रहे ।

अब इसके उलटा अगर किसी हिंदु देवी देवता का अपमान होता है तो पुलिस को चिंता करने की कोई जरुरत नहीं क्यों की इसके लिये येह कानून पुरी तरह मौन हैं ।


तो ये है पुरा विधेयक जिसको सोनिया गांधी की अध्यक्षता वाली राष्ट्रीय सलाहकार कमेटी ने तैयार किया है । इस संविधान संस्था में तीस्ता सीतलवाड़, हर्ष मढेर, जान दयोल जैसे वे नाम है जो विदेशी पैसे , प्रेरणा प्र्भाव के आरोपो में चमकते तारे की तरह सबको दिखाई पड़ रहे हैं ।


जब सरकार से पूछा गया के ये बिल लाकर आप क्या प्राप्त करना चाहते हैं. तो सरकार बिलकुल मौन हैं।



जरा सोचिये जिस देश में 84 कारोड़ 30 लाख लो रोज़ के 20 रुपये पर जिंदा हो.
1 मिनट में 13 लोग भूख से मर रहे हो. महँगाई बढ रही हो

रोज़ नया घोटाला सामने आ रहा हो.

4 जुन की आधि रात को देश भगतो पर दंडे मारे जाए

और जेल में कसाब और अफ़्जल गुरु को बिग्यानी खिलाई जाए !

लीकेन ये सरकार इन
मामलो छोड़ कर हिंदुओ को कैसे खत्म करना है उसके लिये कानून बना रही हो ।

तो आप समझ सकते हैं इस सरकार से बढा देशद्रोही कौन हो सकता है ?


अगर ये बिल पास हो जाता है ।
तो उसके बाद देश में हिंदुओ को अपनी जान बाचाने का एक ही रास्ता बचेगा
वो है अपना धर्म बदल कर वो ईसाई या मुसलमान बन जाए । ।
Advertisements

Post here

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: